वो कोहरा

तेरे उस सफ़ेद कोहरे ने ही तो निखारी थी मेरी मोहब्बत

वो गलियाँ याद हैं; तेरी सर्द सर्दी में गुल्फ़ाम होना भी याद है

तेरे उस सफ़ेद कोहरे ने ही तो निखारी थी मेरी मोहब्बत

वो गलियाँ याद हैं; तेरी सर्द सर्दी में गुल्फ़ाम होना भी याद है

और याद है मेरी बेवफ़ाई; वो गलियाँ रूठ गयीं, वो कोहरा बिखर गया

Published by Gaurav

And one day, it flowed, and rescued me!

One thought on “वो कोहरा

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: